सौदियालेके उग्रु साइलेंट..? वहां दी जाने वाली सजा और भारत में दी जाने वाली सजा में इतना अंतर है..!

0
1
लेखक

पहली बार 24 नवंबर, 2022 को दोपहर 1:48 बजे IST प्रकाशित हुआ

हाल ही में मंगलुरु में एक चलते ऑटो में कुकर ब्लास्ट मामले की चर्चा पूरे देश में हो रही है. इसी तरह देश में आतंकी हमले के कई मामले सामने आते रहते हैं। लेकिन, सऊदी अरब में इस तरह के आतंकी हमले के मामलों की खबरें कम ही सुनने को मिलती हैं। ऐसा क्यों खत्म हुआ..? इस वजह से वहां का कानून। किसी भी देश में कानून जितना मजबूत होगा अपराध दर भी उतनी ही ताकतवर होगी। इसी तरह, सऊदी अरब और इस्लामी शरिया कानून जैसे देश।

हाल ही में सऊदी अरब में 10 दिन में 12 लोगों का सिर कलम कर मौत की सजा सुनाई गई। अंद्रे कथ्टी में अंद्रे कथ्टी ने हिंदी किडिया है। नशीली दवाओं के अपराधों के लिए। इसी तरह अपराधियों के लिए आपराधिक सजा लागू है।

इसे पढ़ें: Drug Offences: सऊदी अरब में 10 दिन में 12 अपराधियों के सिर काटे..!

मौत की सजा आरोपी को दी जाने वाली सबसे बड़ी सजा है। इस तरह की सजा भारत में दुर्लभ मामलों में ही दी जाती है। दूसरी ओर, इस सजा में कई साल लगेंगे। हैगद्रे, सऊदी कानून लागू है। हागद्रे, हमारे कानून और वहां के कानून में कितना अंतर है..? अधिक पढ़ें..

सऊदी अरब में मृत्युदंड के तरीके
सऊदी अरब में शरिया कानून मौत की सजा का प्रावधान करता है। यह दंड 3 प्रकार का होता है। इनमे से,

  • मौत की सजा दी
  • नेनुगंबके अरिसोधु
  • ठग को पीट कर सजा दी जाती है।

यह भी पढ़ें: मोदी के कार्यकाल में कम हुए हैं आतंकी हमले: आरटीआई सूचना

क्या आप जानते हैं सऊदी में कैसी होगी सजा की यह प्रक्रिया?

  • डॉक्टर सबसे पहले मौत की सजा पाने वाले दोषी का स्वास्थ्य परीक्षण करता है।
  • फिर उसे फाँसी की जगह पर ले जाया जाता है
  • गैलिगेरवामेटी एलियन और लगे मोंकलूरी बैथानेवुत्य/ले.
  • जेल प्रशासन का अधिकारी सार्वजनिक रूप से अपराधी द्वारा की गई गलती बताता है।
  • सुल्तान कहलाने वाले जल्लाद ने धारदार हथियार से सिर काट डाला

गुल्लू कायां गल्लु कायं गल्लु कायं।
इजरायल की रक्षा तकनीक को अपनाने वाला सऊदी अरब अकेला ऐसा देश है जो अपने देश में कहीं भी छोटा सा धमाका या धमाका बर्दाश्त कर लेता है। ये पृष्ठभूमि खतरनाक संचय मामले शायद ही कभी यहां दर्ज किए जाते हैं। ऐसे अपराधियों के लिए सजा। पिछले 2 साल में 50 से ज्यादा आतंकियों को यह सजा दी जा चुकी है। इस पृष्ठभूमि में इराक, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, सोमालिया जैसे उग्रवाद के लिए कुख्यात देशों के नागरिक भी सऊदी अरब में अपने कानूनों के सामने आत्मसमर्पण कर देते हैं।

यह भी पढ़ें: पुलवामा ऑपरेशन पुल्वामा माल्डली भारतीय एंड्री ओपरेशन, जैश आतंकी संगठन नालवर सरेरे!

सऊदी में सजा पाने वालों के लिए भारत में क्या सजा है?
सऊदी अरब में मादक पदार्थों की लत और समुद्री डकैती गंभीर अपराध हैं। बीमार होने वालों को दो ग्राम हेरोइन दी जाती है। लेकिन, भारत में प्रतिबंधित दवाओं के सेवन और बिक्री के मामले में कानून अलग है। यहां थोड़ी मात्रा में हेरोइन या अफीम मिली थी, अदालत ने उसे 6 महीने की जेल और 500 रुपये की सजा सुनाई थी। 10,000। तक का जुर्माना लगाया जा सकता है यदि यह प्रतिबंधित दवा है, तो अपराधी को 10 – 20 साल की जेल की सजा हो सकती है। हालांकि, अब तक नशा करने वालों को मौत की सजा नहीं दी गई है। क्योंकि, गलत काम करने पर सजा का कोई चांस नहीं होता है।

अंतिम अपडेट 24 नवंबर, 2022, 1:48 अपराह्न IST




Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here